watch sexy videos at nza-vids!
sex stories
18 साल की बहन की चुत चुदाई
हेलो रीडर्स, आई एम् रॉकी. मैं १९ साल का हु और दिखने में ठीक हु. वेल डेवेलोप बॉडी है और मेरा लंड ७ इंच लम्बा और ३ इंच मोटा है. दिस इज माय फर्स्ट स्टोरी, जो मैं यहाँ पोस्ट कर रहा हु. ये स्टोरी मेरी और मेरी मौसी की लड़की के बारे में है. उसका नाम सोनिया है और सब उसे प्यार से सोनी कहते है. मैं आपको अपनी सिस के बारे में बता दू, कि वो अभी १८ साल की है. उसका फिगर किसी २० साल की लड़की की तरह है. बड़े – बड़े चुचे… मोटी गांड, जिसका मैं तो मस्त दीवाना हु. उसपर मोहल्ले के सारे लड़के मरते थे. मैंने पहले कभी उसके बारे में ऐसा नहीं सोचा था, मगर ४ महीने पहले जब मेरी कॉलेज की वकेशन चल रही थी. उस समय मैं अपने मामा घर गया था. मेरे मामा आर्मी है और साल में १ – २ बार ही घर आते है. इसलिए सोनी मेरी मामी के साथ उनके घर पर रहती है.

जब मैं मामा के घर पंहुचा, तो उस वक्त दोपहर के २ बजे थे. घर पर सिर्फ मामी जी थी. उसका ८ साल का लड़का स्कूल गया हुआ था और सोनी भी स्कूल गयी थी. मामी ने घर वालो के बारे में पूछा और उसके बाद, मुझे फ्रेश होने को कहा. मैं फ्रेश हो गया और उसके बाद मैंने खाना खाया. थोड़ी देर बाद सोनी और मेरे मामा का लड़का निशांत भी आ गये. वो मुझे देख कर काफी खुश हुए. उस वक्त सोनी स्कूल ड्रेस में ही थी और एकदम भरीपूरी जवान लड़की लग रही थी. हम लोग ने थोड़ी देर बात की और फिर रात हो गयी. हम सबने साथ में खाना खाया. उस समय कोई ८:३० बज रहे होंगे. फिर सब सोने चले गये. हम सभी लोग एक ही कमरे में सोने वाले थे. मामी, निशांत और सोनी एक बेड पर और मैं अलग एक सिंगल बेड पर सोने वाला था. मामी ने मुझसे कुछ देर सोनी को पढ़ाने को कहा. सोनी मेरे बेड पर आ गयी.

हम लोगो ने करीब १० बजे तक पढाई करी. उसके बाद सोनी बोली – उसे नीद नहीं आ रही है. मैंने उसे अपने फ़ोन में मूवी लगा कर दे दी और मैं सो गया. सोनी वहीँ मेरे पास लेट कर मूवी देखने लगी. रात में अचानक मेरी नीद खुली, तो देखा कि सोनी अभी भी मूवी देख रही थी. उस वक्त मेरा हाथ उसकी गांड पर चले गया था. मुझे अपने अन्दर एक अजीब सी लेकिन अच्छी उतेजना का अहसास हुआ. लेकिन, मैं जान बुझ कर सोने का नाटक करता रहा. थोड़ी देर बाद, वो भी उठ कर सोने चली गयी. अगले दिन सब कुछ नार्मल था. रात को फिर मामी ने उसे मेरे पास पढ़ने के लिए भेज दिया. हमने थोड़ी देर पढाई करी और उसके बाद, सोनी बोली, कि उसे आज भी मूवी देखनी है. तो मैंने उसे मूवी चालू कर दे दी. वो मूवी ४ पार्ट्स में थी. मैंने दिन में उस मूवी के २न्द पार्ट की जगह एक ब्लू फिल्म डाल दी थी और उसको उसका नाम दे दिया था. सोनी मूवी देख रही थी और मैं सोने का नाटक कर रहा था.

जब वो पार्ट ख़तम हुआ, तो ब्लूफिल्म शुरू हो गयी. पहले तो सोनी चौक गयी. मगर बाद में वो बड़े ध्यान से देखने लगी. कुछ देर बाद, मुझे ऐसा लगा कि वो हिल रही थी. मैंने ध्यान दिया, तो पता चला, कि अपनी चूत में ऊँगली कर रही थी. थोड़ी देर में उसका पानी निकल गया और वो वहां से उठ कर सोने चली गयी. अगले दिन सन्डे था. जब मैं उठ कर बाथरूम जाने लगा, तो मैंने देखा कि बाथरूम में कोई नहा रहा था. मैंने जब दिवार में झांक कर देखा.. तो सोनी वहां नंगी नहा रही थी. मेरा लंड उसे नंगी देख कर एकदम से तन्न गया. थोड़ी देर बाद सोनी अपनी चूत को सहलाने लगी. मेरा उसे ऐसे देख कर बुरा हाल होने लगा था.. थोड़ी देर बाद, जब वो टॉवल में बाथरूम से निकल कर बाहर आई.. तो मैं उसकी चिकनी टांगो को बस देखता ही रह गया. मुझे अपनी टांगो को घूरता हुए देख कर वो हलके से मुस्कुरा दी और इठलाते हुए वहां से चली गयी. मेरे लंड महाराज का ये देख कर बहुत बुरा हाल होने लगा था. मैं झट से बाथरूम में घुसा और उसके नाम की मुठ मारी.

मुझे ऐसा लगा, जैसे कि कोई देख रहा है. जब मैंने पीछे मुड़ कर देखा, तो वहां सोनी टॉवल में लिपटी हुई खड़ी थी. अब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हुआ और मैं सीधे सोनी पर भूखे भेडिये की तरह टूट पड़ा. मैंने उसके गालो और मुह पर चूमना शुरू कर दिया. शुरू में वो थोड़ा विरोध करती रही, लेकिन मैंने उसको चूमना नहीं छोड़ा.. तक़रीबन १० मिनट तक. चूमने के बाद, मुझे होश आया कि मैं ये क्या कर रहा था? तब तक सोनी गरम हो चुकी थी. मुझे ग्रीन सिंग्नल मिल गया था. मगर उस वक्त ज्यादा कुछ नहीं हो सकता था. क्योंकि घर में मामी भी थी. अब मैं उसे हमेशा छेड़ता रहता था. मुझे जब भी मौका मिलता, तो मैं उसे किस कर लेता और उसके बड़े – बड़े चूचो को भी दबा देता था. अब उसे भी अच्छा लगने लगा था और वो मज़े लेने लगी थी. अब मुझे उसे चोदना था, मगर सही समय का इंतज़ार था. भगवान् ने मेरी सुन भी जल्दी ली. वहीँ पड़ोस में एक शादी थी और मामी रात को वहां पर गयी थी और बोल कर गयी थी, कि वो सुबह तक ही वापस आ पाएंगी.
अब घर पर केवल हम तीनो ही थे.. निशांत, सोनी और मैं. निशांत तो छोटा बच्चा था और वो जल्दी ही सो गया था. हमे और क्या चाहिए था… मैं और सोनी एक ही बिस्तर पर लेट गए और मैंने एक अच्छी सी पोर्न मूवी लगा दी अपने मोबाइल पर. कुछ देर देखने के बाद, सोनी गरम होने लगी और उसकी साँसे तेज होने लगी थी. उसके चुचे भी बड़े हो चुके थे. मेरा लंड भी ये सब देख कर गरम हो चूका था और कड़क होने लगा था. मैंने देर ना करते हुए, उसे चूमना शुरू कर दिया. इस बार सोनी मेरा पूरा साथ दे रही थी. मैंने उसे १५ मिनट तक चूमा और फिर मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए. उसने अन्दर रेड कलर की ब्रा और पेंटी पहनी थी. मुझे अब कण्ट्रोल नहीं हो रहा था. मैं उस पर एकदम से टूट पड़ा और उसकी ब्रा को खोल दिया. जैसे ही उसके बूब्स उसकी ब्रा से बाहर आये, तो मैं हैरान हो गया. इतने बड़े बूब्स मैंने आज तक नहीं देखे थे. मैं कभी उसके लेफ्ट मम्मे को चूसता और राईट मम्मे को दबाता और कभी राईट को चूसता और लेफ्ट मम्मे को दबाता. उसे भी बहुत मज़ा आ रहा था. उसके मुह से आनन अनानन अहहहः अहहः ऊऊओओं ऊओहोहोहोह करके आवाज़े निकलने लगी थी.

अब बारी उसकी पेंटी के उतरने की थी. पहले तो मैंने उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चुत को चूमा और उसके बाद एक ही झटके में उसकी पेंटी को उतार दिया. क्या मस्त चुत थी उसकी… एकदम गुलाबी और उस पर हलके – हलके रोंये… मैंने उसकी मखमली चुत को चाटना शुरू किया.. वो मजे में झूम रही थी. उसके मुह से मादक आवाज़े सिस्कारिया निकल रही थी. ये सिस्कारिया मुझे और भी ज्यादा पागल बना रही थी और मुझ में जोश भर रही थी. इन सब के बीच सोनी आज पहली बार कुछ बोल रही थी.

सोनी – भाई और जोर से अहहाह अहहः अहः ऊऊओ मर गयी.. और जोर से करो ना… अहः अहः अहहाह ओअओअओअ अओअओअओअ होहोहोहोह ओह्ह्होहोहोहो

इसी के साथ उसके शरीर तेज चलने लगा और वो एकदम से झड़ गयी. मैं उसका पूरा का पूरा पानी पी गया. अब मैंने अपने कपड़े भी उतार दिए और मेरा ७ इंच का लंड देख कर वो हैरान रह गयी. मैंने उसे लंड चूसने को बोला.. तो उसने मना कर दिया. मैंने भी जबरदस्ती करना ठीक नहीं समझा और एक तेल की बोटल ले आया. कुछ तेल उसकी चुत पर लगाया और ढेर सारा तेल अपनी चुत पर लगा कर एकदम मस्त चिकना कर दिया.

फिर मैं अपने लंड को उसकी चुत पर सहलाने लगा और अचानक मैंने एक जोर से झटका दिया. मेरा आधा लंड एकदम से उसकी चुत में चला गया और वो चीख पड़ी. मैंने एकदम से अपने होठो को उसके होठो पर रख दिया और उसकी चीख को बीच में ही दबा दिया. उसकी चुतफट गयी थी और पूरा बेड खून से भर गया था. उसे काफी दर्द हो रहा था. मैं थोड़ा रुक गया. जब उसका दर्द कुछ कम हुआ, तो मैंने धीरे – धीरे अपना पूरा लंड उसकी चुत में डाल दिया. अब वो भी मज़े लेकर चुदवा रही थी. हम दोनों ने बहुत लम्बी चुदाई की और मैं उसकी चुत में ही झड़ गया. उस रात हमने ३ बार चुदाई की. सुबह उससे ठीक से चला भी नहीं जा रहा था. उसने मामी से बोला, कि बाथरूम में गिर गयी थी. इसलिए थोड़ी चोट आई है. उसके बाद तो जब भी हम मिले, हमने खूब चुदाई की. मैंने उसकी गांड भी मारी.. लेकिन उसकी कहानी फिर कभी.. तब तक लिए गुड बाय.. आपको मेरी कहानी कैसी लगी.. मुझे अपने कमेंट से जरुर बताये और मेरा हौसला बढाये.


| HOME |
(c) MeriSexKahani
452